Header Ads

Latest Post
recent

विश्व स्वास्थ दिवस : जानिए कुछ ख़ास बाते

vishwa swath sangathanअच्छा हेल्थ फिट और फाइन रहना किसे नही पसंद, सभी स्वस्थ रहें खुशहाल हो, हर परिवार की यही इच्छा होती है आज विश्व स्वास्थ दिवस है जो 1948 में WHO (World Health Organization) के द्वारा 7 अप्रैल को मनाने का फैसला किया गया, यह बहुत खास दिन है लोगों को स्वास्थ के प्रति जागरूक करना ताकि आने वाले फ्यूचर को रोग मुक्त बनाया जा सके । वैसे तो WHO से जुड़े कई हेल्थ प्रोग्राम हैं पर आज हम विश्व स्वास्थ दिवस के मौके पर Maternal and Reproductive Health (मातृ और प्रजनन स्वास्थ्य) जो की विश्व स्वास्थ दिवस का एक अहम हिस्सा है जिसके विषय में चर्चा करेंगे । आइए जानते हैं प्रेग्नेंसी से जुडी कुछ महत्वपूर्ण बातें !

हेल्थ के प्रति काफी जागरूकता भी आयी है लेकिन अभी भी कुछ मामले  सामने आते हैं जिन्हें सुन कर देखकर हम काफी चिंतित हो जाते हैं टॉपिक है प्रसव पूर्व प्रेग्नेंसी में कैसे ध्यान दें और किन-किन बातों पर ज़्यादा फोकस करना चाहिए जिस से माँ और बच्चा दोनों स्वस्थ हों

सबसे पहले तो मैं आपको बतादूँ कि हमारे देश में महिलाओं की प्रेग्नेंसी से जुडी काफी प्रॉब्लम्स बनी रहती है Mostly हमारे गावों में आज भी अज्ञानता, ग़रीबी, अशिक्षा व कुछ डर के कारण Delivery ठीक से होने में काफी Complication आ जाती है यहाँ तक की मौत भी हो जाती है यह पोस्ट लिखने का मकसद यह है की आज का ज़माना इन्टरनेट स्मार्ट फ़ोन का ज़माना है शहर में लोग इस्तेमाल करते ही करते हैं बल्कि गाँव में भी ख़ूब इस्तेमाल किया जा रहा है इसलिए इस पोस्ट के माध्यम प्रसव पूर्व जांच व गर्भावस्था में चिकित्सा जांच के फायदे के बारे में उन सभी तक पहुँचाना जागरूक करना मेरी एक छोटी सी कोशिश है ताकि जच्चा व बच्चा दोनों स्वस्थ्य हो और परिवार खुशहाल रहे।

प्रेग्नेंसी पता चलते ही चार मुख्य जाँच !

Benefits-of-medical-examination-during-pregnancy-in-hindi
गर्भवती महिला के प्रसव से पहले चार मुख्य जाँच करना Compulsory है जिसे ANC (Ante Natal Checkup) कहते हैं ANC क्या है इसकी सम्पूर्ण जानकारी आपके नज़दीकी हेल्थ सेंटर से मिल जाएगी फिर भी कुछ जानकारियाँ आपके साथ शेयर की गयीं हैं।

  • पहली ए.एन.सी जाँच माहवारी छूटते ही या महावारी छूटने के पहले तीन माह महीने के भीतर 
  • दूसरी ए.एन.सी जाँच प्रेग्नेंसी के चौथे से छठे महीने में 
  • तीसरी ए.एन.सी जाँच प्रेग्नेंसी के सातवें से आठवें महीने में 
  • चौथी ए.एन.सी जाँच प्रेग्नेंसी के नवें महीने में
ANC के अलावा भी कुछ अन्य जाँचें जिन्हें करना भी आवश्यक है !
  • हर प्रसव में ख़ून व पेशाब की जाँच
  • B.P (ब्लड प्रेशर) वज़न और पेस्ट की जाँच कराएं, साथ ही आपको I.F.A (आयरन फोलिक एसिड ) की गोलियां व एक महीने के अंतर पर T.T (टिटेनस टॉक्साइड) के दो टीके लगवायें
  • पेशाब में एल्मुनियम और शुगर तो नही है इसकी जाँच कराये, क्योँकि एल्मुनियम और शुगर का जाँच कराना माँ व बच्चे को गंभीर कंडीशन में जाने से बचता है 
  • अपना वज़न नपवाएँ क्योँकि गर्भावस्था के दौरान औसतन 9 -11 किलो वज़न बढ़ता है, 
  • बच्चे का विकास ठीक तरीके से हो रहा है इसका पता लगाए के लिए पेट की जाँच करना बेहद ज़रूरी है 
  • खून की कमी का पता लगाने के लिए H.B (हीमोग्लोबिन) की जाँच कराये, हीमोग्लोबिन की जाँच से शरीर में खून की मात्रा पता लगने से उपचार में मदत मिलती है 
  • हाई बी.पी का पता लगाने के लिए अपने ब्लड प्रेशर की जाँच करवाये क्योंकि हाई बी.पी होने से गर्भवती महिला और बच्चे दोनों को ख़तरा रहता है 
आयरन फोलिक एसिड (I.F.A) गोलियाँ ज़रूर लें 

गर्भावस्था के दौरान I.F.A की गोलिया लेने से माँ में ख़ून की कमी नही होती है और होने वाला बेबी हेल्दी होगा ये कन्फर्म होता जाता है अगर माँ को कोई अन्य समस्या न हुई तो,
Generally तौर पर I.F.A की एक गोई रोज़ लेनी चाहिए परंतु अगर महिला को एनीमिया है तो डॉक्टर के मुताबिक I.F.A की दो गोलियां सुबह और शाम लेने की सलाह दी जाएगी,

यह भी पढ़ें :- एनीमिया क्या है इसका लक्षण कैसे पता करें 

प्रेग्नेंसी के दौरान डाइट (आहार)

  • प्रेग्नेंसी के दौरान आपको दिन में एक एक्स्ट्रा डाइट लेना बेहद ज़रूरी है 
  • दूध, दही और छांछ, पनीर इनमे ज़्यादा मात्रा में कैल्शियम,प्रोटीन और विटामिन होते हैं
  • फ्रेश मौसमी फ्रूट और सब्ज़ियां खाये क्योंकि इनमे विटामिन व मिनलर मिलते हैं छिलके वाली दालें और अनाज इनका अच्छा सोर्स हैं
  • हरी पत्ती दार साग सब्ज़ियां आयरन व फोलिक एसिड से भरपूर होता है 
  • मुट्ठी भर अप्रोक्स (45gm) मूंगफली के दाने और कम से कम दो कप दाल से शाकाहारी लोगों की दैनिक रूटीन पूरी हो जाती है
  • मांसाहारी लोगों के लिए मीट, अंडा, मछली प्रोटीन विटामिन और आयरन के अच्छे सोर्स मिलते हैं 
  • "मल्टी प्रोटीन युक्त खाना खाने से गर्भवती महिला को उसके बच्चे के विकास में बढ़त मिलती है व ख़ून की कमी नही होने देता"
  • साफ़ सफाई पर ज़्यादा ध्यान दें 
  • हर बार खाना खाने से पहले व शौच के बाद हाथ खूब अच्छी तरह से हाथ को साबुन या हैण्ड वास से धोएं,
  • लगातार हाथ की सफाई के साथ-साथ नाख़ून को भी समय से काटती रहें,  
  • खाने को अच्छी तरह से ढक कर रखें और साफ़ व शुद्ध पानी पीएं,

प्रेग्नेंसी के दौरान कितना आरम करें 

  • रात में 8 घंटे और दिन में काम से काम 2 घंटे आराम करें
  • बाएं करवट लेटें क्योकि गर्भ में पल रहे बच्चे को खून की Supply बढ़ जाती है 
  • भरी सामान उठाने व कड़ी मेहनत करने से बचें 
  • काम को अपने ऊपर ज़्यादा ज़ोर न दें और कुछ कामों में दूसरों की Help लें 

पारिवारिक सपोर्ट की सबसे ज़्यादा ज़रूरत 

  • परिवार का बिहेवियर व माहोल हँसी ख़ुशी से भरा होना चाहिए 
  • परिवार की यह ज़िम्मेदारी होती है की वह गर्भवती महिला के खाने पीने की चीज़ों पर ठीक से ध्यान दें 
  • लेबर पेन शुरू होने या कोई और Complication होने पर हेल्थ सेंटर से तुरंत संपर्क करने में देर न करें
  • परिवार की सबसे बड़ी ज़िम्मेदारी यह भी है की पर्याप्त पैसा और गाड़ी का इंतेज़ाम पहले से ही कर लें 
  • ईश्वर न करे किसी के साथ भी ऐसा हालात बने, इसलिए परिवार वालों को एक एसे व्यक्ति की पहचान कर ले जो Emergency पड़ने जैसे कंडीशन में ब्लड डोनेट कर सके 

प्रेग्नेंसी और डिलेवरी के दौरान ख़तरे के संकेत 


गर्भावस्था के शुरूआती महीनों में योनि से ब्लड बहना अत्यधिक मिचली और उल्टी, लेबर पेन शुरू होने से पहले योनि से ब्लड का रिसाव, हाई ब्लड प्रेशर, बेहोशी/या पेट में दर्द, कमज़ोरी महसूस होना, थक जाना साँस फूलना, पाँव में बेहद सूजन होना, दौरा पड़ना, पेशाब में जलन तेज़ बुखार या अन्य कोई बिमारी हो तुरंत अपने नज़दीकी हेल्थ सेंटर में जाकर समय पर हेल्प लें इससे आपका और बच्चे दोनों का जीवन सुरक्षित रहता है।

नोट:- यह जानकारी जन हित में दी गयी है सबसे पहले आप अपने नज़दीकी सरकारी हेल्थ सेंटर में जा कर अपना रजिस्ट्रेशन कराएं और डॉक्टर की सलाह के अनुसार माँ व बच्चे की देखभाल करें !



8 comments:

  1. अच्छे स्वास्ठय के लिए आपके टिप्स वाकई लाजवाब है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. dhanyawat ayse visit krte rhen

      Delete
  2. बहुत ही अच्छी जानकारी दी है आपने। world health day पर इससे अच्छी पोस्ट कोई और नहीं हो सकती। मुझे बहुत पसंद आई। यह बहुत ज्ञानवर्धक है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. jamshed azmi ji apka bahut bahut shukriya itna pyara comment krne ke liye

      Delete
  3. मां बनना एक औरत के लिए सबसे बडी खुशी होती हैं और इस खुशी को आपके द्वारा बताएं गए tips से स्वस्थ्य रहकर और भी बढाया जा सकता है क्योंकि स्वस्थ्य रहकर ही एक औरत स्वस्थ्य बच्चे को जन्म दे सकता है । धन्यवाद राहुल जी इतनी महत्वपूर्ण और उपयोगी जानकारी देने के लिए ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत ही सुंदर कमेंट किया मैंम इससे हमारा हौसला और बढ़ेगा आपका बहुत बहुत धन्यवाद !

      Delete

आपके कमेंट्स का हम हार्दिक स्वागत करते है। आपके सुझाव व मार्गदर्शन से हमारा हौसला और बढ़ेगा जिससे हम और बेहतर क़र सकेंगे !!धन्यवाद!!

Powered by Blogger.