Header Ads

Latest Post
recent

आँखों की देखभाल कैसे करें How to care of eyes

aankho ki dekh bhal kyse kre
दोस्तों वैसे तो शरीर का हर एक अंग इम्पोर्टेन्ट है, ये कहना की सिर्फ आँखे ही शरीर का मुख्य हिस्सा है, यह बात भी गलत नहीं है, ईश्वर ने शरीर में आँखों के रूप में वो अनमोल तोहफ़ा दे दिया है जिसे शब्दों में बयाँ नहीं किया जा सकता,

क्योंकि दुनिया में आने के बाद हमें 'जन्म देने वाले' हमारे पेरेंट्स को जब किसी ने पहचाना आपकी माँ हैं, वो आपके पिता है तो किसी और ने नहीं हमारी आँखों ने पहचाना, आँखें हैं तो जीवन में उजाला है वरना ज़िन्दगी दूसरों के सहारे की मोहताज होती हैं तो आइये हम अपना भी फ़र्ज़ निभाते हैं, आँखों को बीमार होने से बचाते हैं।

आँखों की देखभाल कैसे करें जानिए कुछ ख़ास टिप्स !

आँखों को साफ़ ठंडा व निरोगी रखने के लिए :- जब अर्ली मॉर्निंग आप बिस्तर से उठें और फ्रेश होकर, भोजन के बाद, दिन मे कई बार और रात में सोते समय, मुँह में पानी भरकर आँखों पर साफ़ ठंडे पानी के छीटें मारें, इससे आँखों की रोशनी बढ़ती है

ध्यान रहे कि मुँह का पानी गर्म न होने पाए, पानी गर्म होने पर बदल लें, मुँह से पानी निकालते समय पूरे ज़ोर से मुँह को फुलाते हुए वेग से पानी छोड़ें, इससे ज़्यादा लाभ  होता है आंखों के आस-पास झुर्रियां नहीं पड़ती। इसके अलावा अगर पढ़ते समय अथवा आँखों का कोई अन्य  बारीक काम करते समय आँखों में ज़रा भी थकन महसूस हो तो तस विधि से ठंडे पानी से आंखों को धोएं, आँखों के लिए यह बहुत ही फायदे मंद है

पानी में आखें कैसे खोलें :- नहाते समय बाल्टी में पानी भर लें, कोशिश करें पानी ताज़ा हो, उसमें आँखों को डुबोकर बार बार खोलें  और बंद करें दोस्तों सबसे अच्छा माना जाये तो स्वीमिंग पूल, या किसी शांत नदी में (जिसका पानी साफ़ सुथरा हो) डुबकी लगाकर ये उपाय फॉलो किया जाये तो बहुत ही फायदेमंद है, आँखों के साथ सा:-थ पूरी बॉडी भी स्वस्थ रहेगी।

आराम ज़रूर करें :- दोस्तों हम काम/ऑफिस या बाइक ड्राइव करना, या रोज़ डेली रूटीन जो भी काम करते हैं दिन बार आँखों का यूज़ करते हैं कितना पोल्यूशन आँखे झेलती हैं लेकिन उनकी ओर कभी ध्यान नहीं देते, आँखों को आराम देने के लिए थोड़े-थोड़े टाइम के गैप के बाद आँखों को बंद करके, दिमाग़ को रिलैक्स करके, अपनी दोनों हथेलियों से इस तरह ढक लीजिए ताकि बहार की रौशनी ज़रा सा भी दिखाई न दे।

हथेलियों का दबाव आँखों पर हल्का सा पड़े, साथ ही साथ अँधेरे का ऐसा ध्यान करिये लगे की आप अँधेरे कमरे में बैठे हुए हैं इससे आँखों को रिलैक्स मिलता है, और मन भी शांत होता है चाहे कोई रोगी हो या न हो चाहे कोई उम्र दराज़ हो या यंगगेस्टर, सभी को यह फॉलो करना चाहिए।

आँखों की मूवमेंट बरक़रार रखे :- रफ़्तार ही जीवन है इस थियोरी के अनुसार बॉडी के हर पार्ट को हेल्दी और एक्टिव बनाये रखने के लिए, उसमें हरकतें होते रहना बहुत ही ज़रूरी और फायदेमंद है पलकें झपकना आँखों की नार्मल ऐक्टिविटी है, बच्चों की आँखों में आसान रूप से यह रेगुलर ऐक्टिविटी होती रहती है।

नार्मल तौर से पलकें झपका कर देखने से आंखे साफ़ सफाई होती रहती है, किसी को घूरना आँखे फाड़ कर देखना बुरी आदत तो है ही इस तरह हरकत करना मतलब आँखों का गलत इस्तेमाट करना है इससे आँखों में थकान व सुस्ती आ जाती है।

avoid smart phone for the for the protection eyesस्मार्टफोन से चिपके रहना :- दोस्तों स्मार्टफ़ोन हमारी लाइफ का हिस्सा बन चुका है, आज कल के कुछ स्टूडेंट्स महाशय ऐसे भी हैं जिन्हें फ़ोन से ऐसा लगाव हो गया है कि किताबों में भले ही दिल न लगता हो, पर फ़ोन पर नोटिफ़िकेशन देखने की दिल्लगी सी हो चुकी है, ऐसे में आँखों को बहुत ही तकलीफ़ सहना पड़ता है बेचारी आँखे दर्द बयाँ तो करती है पर उन्हें इग्नोर कर देते हैं

इसका साइड-इफेक्ट यह होता है की काम दिखाई देने लगता है आँखों से आंसू बिना रोये ही निकलते रहते हैं और डॉक्टर साहब के पास जा कर दवा लेते हैं अच्छा ख़ासा फीस भी भरते हैं यह तक नकली आँखे अर्थात चश्मा लगाने की नौबत आ जाती है इस लिए हमे बार-बार पलके झपकने की आदत अपनानी चाहिए, आँखों को स्वस्थ्य रखने के लिए नार्मल तौर से पलकें झपकते रहना नैचुरल उपाय है
    सही ढंग से पढ़े और देखें :- स्टूडेंट्स को खास कर इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि वे आँखों को चौंधियाँ देने वाले अत्यधिक तेज़ रोशनी में न देखें साथ में इस बात का भी ध्यान रखें कि कम रोशनी में व लेटे-लेटे पढ़ना भी आँखों के लिए बहुत हानिकारक है आज कल के स्टूडेंट आमतौर पर इसी आईडिया को अपनाते हैं, बहुत कम रोशनी या बहुत ज़्यादा रोशनी में पढ़ने लिखने या ऐसे अन्य काम जिनमें आँखों का ज़्यादा यूज़ करने से आँखों पर ज़्यादा ज़ोर पड़ता है, आँखे कमज़ोर पड़ जाती हैं और कम उम्र में चश्मिश हो जाते हैं, सामान्य तौर से कहा जाये तो पढ़ने के दौरान आँखों  किताबों के बीच 12 इंच अथवा थोड़ी अधिक दूरी रखनी चाहिए।

    खाने पर विशेष ध्यान :- आपकी आँखों का हेल्थ आपके डाइट पर भी डिपेंड करता है, पेट में कब्ज़, आँखों की बिमारी के साथ-साथ कई तरह की बीमारियों का जड़ है, इसलिए पेट को हमेशा साफ़ रखें और कब्ज़ न होने दें इससे भी आँखों की रक्षा कर सकते हैं इसलिए दोस्तों हमेशा डाईजेस्टबल और सादा भोजन ही खाएं। 

    योग से रोगमुक्ति :- योगासन भी आँखों की बीमारियों को दूर रखने में बहुत ही हेल्पफुल साबित होते हैं सर्वांगासन आई डिसॉर्डर को दूर करने का और आँखों की रोशनी बढ़ाने का बहुत बढ़िया आईडिया है।

    आँखों की नार्मल कसरतें :-
    1. हर रोज़ सुबह-शाम एक-एक मिनट तक पलकों को तेज़ी से खोलने बंद करने कोशिश जरूर करें।
    2. आँखों  बंद करें और दस सेकंड बाद तुरंत खोल दें । 
    3. आँखे को खोलने-बंद करने की कसरत ज़ोर देकर रेगुलर करो मतलब जब एक आँख खुली हो तो उस समय दूसरी बंद रखें, आधा मिनट ऐसा करना आँखों की मसल्स रिलैक्स हो जाती हैं।
    4. पलकें बंद करके हल्के हाथ से दबाये रखे मन शांत करे ध्यान लगाएं 4-5 मिनट तक फिर अँगुलियों को हटा ले ऐसा करने से आँखों की नसों का तनाव दूर हो जाता है 


    आँखों की सुरक्षा के उपाय :-
    1. गर्मी और धूप में से आने के बाद शरीर पर एकदम से ठंडा पानी ना डालें, पहले पसीना सुखा कर शरीर को ठंडा कर लें, सर पर न ज़्यादा गर्म पानी डालें न ज़्यादा गर्म पानी से फेस धुलें। 
    2. अगर नींद का समय हो गया हो, आपको नींद आ रही हो और आँखें भरी-भरी सी लगने लगें तो फ़ौरन फ़ोन व किताबें बंद कर के सो जाएँ, तब जागना बिलकुल ही सही नहीं। 
    3. सुबह सूरज निकलने के बाद सोये रहना, दिन में सोये रहना और रात में देर तक जगने से आँखे बेनूर हो जाती है आँखों पर तनाव पड़ने लगता है।
    4. बहुत दूर की और बहुत चमकीले चीज़ों को घूर कर न देखो, धूल, धुआँ और तेज़ रोशनी को आँखों से बचाना चाहिए।
    5. बिना चश्मा बाइक, स्कूटी फर्राटे से न चलाये आँखों की सुरक्षा से साथ-साथ शरीर की सेफ्टी का ख्याल रखें।
    यह भी पढ़ें :- लम्बी उम्र जीने के लिए फिट और फाइन कैसे रहें

    अगर आप आँखों को हेल्दी रखने की इस छोटी छोटी टिप्स पर ध्यान दें और रेगुलर तौर पर केयरफुली इन बातों को फॉलो करते रहे, तो आप लम्बे वक़्त तक अपनी आँखों को तमाम तरह के रोग व इन्फेक्शन से बचा कर सुन्दर और अट्रैक्टिव बनये रख सकते हैं

    आँखे बिना कुछ कहे बहुत कुछ बयाँ कर जाती है इनको सेफ रखें आपकी अमानत है 
    ख़ुश रहें सेफ रहें दूसरों की मदत करें 

    8 comments:

    1. आंखों की देखभाल के ऊपर बहुत ही बेहतरीन किस्म का लेख है। हम अक्सर आंखों की देखभाल करने में कंजूसी बरतते हैं। जबकि हमें आंखों की ज्यादा देखभाल करनी चाहिए। आपने मुझे यह याद दिलाया। इस‍के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

      ReplyDelete
      Replies
      1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद जमशेद जी

        Delete
    2. आंखो की देखभाल करने के आपने बहुत अच्छे टिप्स बताएं हैं । धन्यवाद राहुल जी । मैं भी अपनी आंखो की सुरक्षा के लिए ऊपर्युक्त टिप्स को जरूर अपनाउंगी ।

      ReplyDelete
      Replies
      1. धन्यवाद बबिता जी

        Delete
    3. बहुत उपयोगी जानकारी बताई है आपने।

      ReplyDelete
      Replies
      1. धन्यवाद! मैंम !

        Delete
    4. very good information dear thanks for good post sharing

      ReplyDelete

    आपके कमेंट्स का हम हार्दिक स्वागत करते है। आपके सुझाव व मार्गदर्शन से हमारा हौसला और बढ़ेगा जिससे हम और बेहतर क़र सकेंगे !!धन्यवाद!!

    Powered by Blogger.